Language: English Hindi Marathi

ओडीओडी’ योजना के तहत इको टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए योगी सरकार काम कर रही है.

उत्तर प्रदेश में ‘ओडीओडी’ योजना के तहत इको टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए योगी सरकार काम कर रही है. इस योजना में प्रदेश के 65 जिलों को शामिल किया गया है. इन जिलों में चिड़ियाघर, पक्षी विहार बनाया जाएगा.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर वन विभाग प्रदेश के हर जिले से ऐसी संभावनाओं वाले क्षेत्रों को चिह्नित कर रहा है, जिनको ‘वन डिस्ट्रिक्ट, वन डेस्टिनेशन’ (ओडीओडी) योजना के अंतर्गत विकसित किया जा सके. इस योजना से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा. अब तक 56 जिलों में ऐसे स्थल चिह्नित किए जा चुके हैं.

प्रदेश सरकार ने अपना ध्यान हर जिले की विशिष्टताओं को रोजगार व आय के साधन के तौर पर विकसित करने पर केंद्रित किया है. इसी कड़ी में ओडीओपी योजना के तहत हर जिले से एक उत्पाद चिह्नित कर उसके उत्पादन, पैकेजिंग व बैंडिंग पर ध्यान दिया गया. उत्पादों के साथ ही हर क्षेत्र की पर्यटन व सांस्कृतिक विशेषताओं को भी बाजार व आय से जोड़ने की कवायद शुरू की गई है. ओडीओडी इसका ही हिस्सा है|

वन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि यूपी में इको टूरिज्म के लिए अपार संभावनाएं हैं. हर जिले का स्थान विशेष प्राकृतिक, पर्यावरणीय या वन्य पर्यटन के लिहाज से मुफीद है. इन स्थलों को आपस में जोड़ा जाए तो यह पिकनिक या वन-डे-टुअर के तौर पर पर्यटकों को लुभा सकते हैं. वहीं, स्थानीय स्तर भी पिकनिक आउटिंग की मुफीद जगह के तौर पर विकसित हो सकते हैं. ऐसे में ओडीओडी योजना के तहत ऐसी जगहों को चयनित कर उन्हें विकसित किया जाएगा. इसके लिए इको टूरिज्म बोर्ड भी बनाया जा रहा है.

ऐसे बदलेगी तस्वीर

अब तक मऊ, शाहजहांपुर, बस्ती, हाथरस, हमीरपुर, अमेठी, सीतापुर, बाराबंकी, अयोध्या, फतेहपुर, जौनपुर, कौशांबी, आजमगढ़, अंबेडकरनगर, कानपुर, गोरखपुर सहित 56 जिलों से स्थल चिह्नित कर उसके प्रस्ताव शासन को भेजे जा चुके हैं. इन स्थलों का पर्यटन चयनित स्थलों पर बुनियादी सुविधाएं मसलन रेस्ट रूम, सड़क, बिजली, पानी, शौचालय के साथ ही सुरक्षा के इंतजाम किए जाएंगे. इसके बाद इन्हें पर्यटन डायरेक्ट्री में शामिल किया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.