Language: English Hindi Marathi

जापान को आर्थिक सुरक्षा दी पर खुद को नहीं दे पाए सुरक्षा, ।

जापान की इकॉनमी को सुधारने के लिए ब्याज दरों में अप्रत्याशित कटौती और रेग्युलेटरी रिफॉर्म्स किए। इन नीतियों को आबेनॉमिक्स कहा गया। उन्होंने जापान को डिफ्लेशन से बचाया

जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे का शुक्रवार की दोपहर हत्या हो गई, जिसके साथ भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक दोस्त गंवा दिया

पश्चिम जापान के नोरा शहर में शुक्रवार को वह लोगों को संबोधित कर रहे थे, तब उन्हें एक व्यक्ति ने पीछे से गोली मार दी थी। वह रविवार को होने वाले ऊपरी सदन के चुनाव के लिए प्रचार कर रहे थे, जब यह घटना हुई। आबे जापान के इतिहास में प्रधानमंत्री पद पर सबसे अधिक समय तक रहने वाले नेता थे। वह 2012 से 2020 तक प्रधानमंत्री रहे। इससे पहले वह 2007 में भी एक साल के लिए प्रधानमंत्री बने थे। प्रधानमंत्री के रूप में जापान में राजनीतिक स्थिरता का श्रेय आबे को जाता है। उन्हें अपनी आर्थिक नीतियों के लिए याद रखा जाएगा

प्रधानमंत्री के रूप में जापान में राजनीतिक स्थिरता का श्रेय आबे को जाता है। उन्हें अपनी आर्थिक नीतियों के लिए याद रखा जाएगा। उन्होंने जापान की इकॉनमी को सुधारने के लिए ब्याज दरों में अप्रत्याशित कटौती और रेग्युलेटरी रिफॉर्म्स किए। इन नीतियों को आबेनॉमिक्स कहा गया। उन्होंने जापान को डिफ्लेशन से बचाया।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.